सरदारशहर में मामूली बारिश मुख्य बाजार में भरा पानी


गुरुवार को प्रातः 4:00 बजे शहर में हुई मामूली बरसात नगर पालिका ड्रेनेज सफाई की पोल खोल दी 



शहर में प्रातः 2 मिमी बारिश होने से मुख्य बाजार में भरा पानी दोपहर तक निकास नहीं हो पाया जिसके कारण ऑटो के चालक व अन्य वाहनों को अन्य मार्गो से निकलना पड़ा ऑटो चालकों का कहना है कि जब नगर पालिका के चुनाव  हुए थे तब भाजपा नेताओं ने इस समस्या का प्रथम मुद्दा बनाया था और अपनी घोषणा पत्र में इस समस्या के समाधान करने का कस्बे के लोगों को आश्वासन दिया था  की 6 महीने में समस्या का निदान हो जाएगा लेकिन 4 वर्षों में इस समस्या ने विकराल रूप धारण कर दिया है पहले इतनी कम वर्षा में पानी एकत्रित नहीं होता था लेकिन अब तो कुछ मिमी वर्षा में ही बाजार में पानी इकट्ठा हो जाता है और ड्रेनेज की सफाई का मुद्दा सत्ता पक्ष के पार्षदों द्वारा बार-बार उठाने के बावजूद समस्या का समाधान नहीं हो रहा है जिसके कारण जनता परेशानी का सामना कर रही है इस समस्या के लिए नगरपालिका और प्रशासन दोनों ही ध्यान नहीं दे रहे हैं बल्कि यह शहर की सबसे बड़ी समस्या है और इस समस्या के चलते शहर में लगभग 6 से 7 गंदे पानी की गीनानी हा 


जिले में दिनभर रही बादलों की आवाजाही, चूरू व सुजानगढ़ में हुई बूंदाबांदी
 चूरूजिले में लगातार दूसरे दिन भी गुरुवार को मौसम का मिजाज अलग नजर आया। दिनभर बादलों की आवाजाही के बीच तेज हवाएं चलती रही। रतनगढ़ में चने के आकार के ओले गिरे, वहीं सरदारशहर में सुबह दो एमएम बारिश हुई। चूरू व सुजानगढ़ में दिन में दो-तीन बार बूंदाबांदी हुई। जिला मुख्यालय पर बुधवार को सुबह से ही घने बादल छाए रहे तथा तेज हवाएं चलती रही। सुबह नौ बजे के बाद बादलों की आवाजाही के बीच हल्की धूप भी निकली, मगर हवाओं का दौर जारी रहा। दोपहर 2.30 बजे के करीब मामूली बूंदाबांदी हुई। शाम छह बजे के करीब घने बादलों की आवाजाही के बीच हल्की बूंदाबांदी हुई तथा ठंडी हवाएं चलने लगी, जिससे शाम को ठंड का असर मामूली तौर पर बढ़ गया। सुजानगढ़ में भी दिनभर बादल छाए रहे तथा तेज हवाएं चलती रही। दोपहर में कुछ देर तक हल्की बूंदाबांदी हुई। बाद में शाम तक बादल छाए रहे। तारानगर में सुबह व शाम के समय कुछ देर तक लिए घने बादल छाए रहे, जबकि अन्य समय धूप खिली रही। बीदासर में हल्के बादलों की आवाजाही के बीच धूप खिली रही। सादुलपुर में भी हल्की बादलवाई का असर रहा। रतनगढ़ में हुई बूंदाबांदी व अन्य क्षेत्रों में बारिश व बूंदाबांदी से खेतों में पककर तैयार खड़ी रबी फसलों को नुकसान होने का डर बना हुआ है। किसानों ने बताया कि तेज हवाओं से पककर सुख चुकी गेहूं व सरसों की फसल में फलियां झड़ने का डर बना हुआ है। 


आज भी बारिश की संभावना : कलेक्टर संदेश नायक ने बताया कि मौसम विभाग की ओर से गुरुवार सुबह 11.30 बजे जारी की गई चेतावनी के अनुसार अगले 24 घंटों तक यानी शुक्रवार सुबह तक श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जयपुर, सीकर, झुंझुनूं व अलवर जिलों के साथ ही चूरू जिले में भी एक-दो स्थानों पर थंडर स्टोर्म और बिजली कड़कने के साथ हल्की बारिश की संभावना बनी हुई है। 


ने के आकार के गिरे ओले,10 मिनट तक हुई बारिश

रतनगढ़ क्षेत्र में गुरुवार को करीब तीन मिनट तक चने के आकार के ओले गिरे व 10 मिनट तक बारिश का दौर चला। गुरुवार को सुबह से ही बादल छाए रहे। दोपहर में घने बादलों के बीच करीब 10 मिनट तक हल्की बारिश हुई तथा तीन मिनट तक चने के आकार के ओले गिरे। शहर में पूर्वी दिशा में जहां तेज, वहीं हनुमान पार्क क्षेत्र में बिल्कुल भी बारिश नहीं हुई। शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में कहीं हल्की, तो कहीं मध्यम दर्जे की बारिश व ओलावृष्टि हुई। दोपहर में तेज हवाओं के साथ मिट्टी उड़ने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा
Ne