सरदारशहर से हनुमानगढ़ का सर्वे अंतिम बार 1999 में हुआ था मतलब आज से लगभग 20 साल पहले इस पहले भी लगभग सरदारशहर से हनुमानगढ़ का सर्वे 2 बार हो चुका है अभी तक इस लाइन का सर्वे 3 बार किया जा चुका है लेकिन इसमें सफलता की प्राप्ति नहीं हो रही है और सरदारशहर का विकास बाधित है


 सरदारशहर से हनुमानगढ़ ट्रेन आज एक समय में सबसे जरूरी है क्यूंकि सरदारशहर में चांदी पर POP  ​का काम बहुत बड़ा है इस के साथ सरदारशहर जिला का सबसे बड़ा शहर है सबसे बड़ा तहसील मुख्यालय है सरदारशहर अपनी मिठाइयों के कारण भी बहुत प्रसिद्ध है लेकिन सरदारशहर की सबसे बड़ी बाधा ट्रेन की है यह मात्र रतनगढ़ तक ट्रेन जाती है अगर सरदारशहर से हनुमानगढ़ लाइन आज कि सबसे बड़ी जरूरत है चूरू जिले ओर हनुमानगढ़ जिले के लिए इस हनुमानगढ़ के रावतसर पर पल्लू का विकास होगा और चूरू जिले  उत्तरी भारत से जुड़ेगा । उत्तरी राजस्थान में अभी तक नई रेल लाइन नहीं बिछाई गई। ऐसे में इलाके की विकास बहुत धीमा है। हनुमानगढ़-रावतसर, पल्लू, सरदारशहर-रतनगढ़ के मार्ग पर नई रेल लाइन की जरूरत है।  रावतसर में बाबा रामदेव का मंदिर है जहां पंजाब-हरियाणा से श्रद्धालू आते हैं। पल्लू में मां ब्रह्माणी का मेला भरता है यहां भी हजारों लोग धोक लगाने पहुंचते हैं। सरदारशहर चांदी के काम के कारण जाना जाता है। यहां कारोबारियों का आना-जाना लगा रहता है। सरदारशहर से रतनगढ़ तक रेल लाइन चालू है।
​अगर ये लाइन आज के समय में प्रारंभ हो जाती है तो इसे सरदारशहर ही नहीं बल्कि हैं पूरा जिला ओर हनुमानगढ़ जिले में विकास में गति आएगी। इसे जिले के औद्योगिक क्षेत्र में विस्तार होगा आवागमन बढ़ेगा गांव के लोगो को कृषि के समान के लिए शहर आने में सुविधा मिलेगी अगर ये लाइन सुरु हो जाती है तो इसे सरदारशहर ही नहीं रतनगढ़ ओर पूरे चूरू जिले का विकास बहुत तेजी से होगा और साथ ही हनुमानगढ़ के पल्लू पर रावतसर लाइन से जुड़ेंगे पर हनुमानगढ़ से संपर्क सही बनेगा और चूरू जिला पंजाब , और उतरी भारत से आसानी से मिलेगी


​पिछले 5 वर्षों के कार्यकाल मे राहुल जी कस्वा ने 16 ट्रेन का विकास चूरू में किया है लेकिन अभी भी वह जिले के सबसे बड़े शहर की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं और इसे सरदारशहर नहीं पूरा चूरू जिले विकसित होगा। आज पूरे इलाके मे ब्रॉडगेज लाइन है अतः Rahul Kaswan जी एव Nihal Chand Chauhan जी से निवेदन है कि आज के समय की जरूरत के अनुसार सर्वे दोबारा कराया जाए , जिससे सरदारशहर , पल्लू , रावतसर एव रतनगढ़ - डेगाना रेल खंड का पूरा क्षेत्र उत्तर भारत से रेल द्वारा संपर्क मे आ सके और अगर आप भी इसका विकास चाहते है तो तो इस पोस्ट को अधिक से अधिक अपने Whatsapp Facebook ​पे शेयर करे